Wednesday, February 28, 2024
Homeपडरौनाइस्लाम धर्म के अनुयायियों द्वारा मनाई गई जश्ने ईद मिलादुन्नबी

इस्लाम धर्म के अनुयायियों द्वारा मनाई गई जश्ने ईद मिलादुन्नबी

एएमटी न्यूज टीम कुशीनगर

👉इस्लाम के आखिरी पैगंबर मुहम्मद साहब के जन्मदिन पर निकाली गई जुलूस


एएमटी न्यूज पडरौना ईद-ए-मिलाद के रूप में जाना जाने वाला, मिलादुन्नबी इस्लाम धर्म के पैगम्बर हजरत मुहम्मद साहब के जन्मदिन के उपलक्ष्य में मनाया जाता है। यह उत्सव उनके जीवन और उनकी शिक्षाओं की भी याद दिलाता है। मिलादुन्नबी इस्लामी पंचांग के तीसरे महीने रबी-उल-अव्वल के 12वें दिन मनाया जाता है। हालाँकि मुहम्मद साहब का जन्मदिन एक खुशहाल अवसर है,लेकिन मिलाद- उन-नबी शोक का भी दिन है। यह इस वजह से क्योंकि रबी-उल-अव्वल के 12वें दिन ही पैगम्बर मुहम्मद की मृत्यु भी हुई थी। इस दिन पूरी दुनिया के मुसलमान ईद मिलादुन्नबी का जुलूस निकालते हैं।सारी दुनिया के मुसलमानों के लिए पैगंबर मोहम्मद का जन्म दिवस बहुत पाक दिन है। इस दिन तमाम मुसलमान खुशियां मनाते हैं। अपने घरों में रोशनी करते हैं,साफ सफाई करते हैं,मीठी पकवान और मिठाईयां बनाई जाती है और एक दूसरे को मुबारकबाद देकर खुशियां बांटी जाती है। पैगंबर साहब के मानवता के संदेश को घर घर पहुंचाने के लिए ईद मिलादुन्नबी का जूलूस नगर के छावनी,खिरिया टोला,नौका टोला, हाथिसार मुहल्ला आदि जगहों से निकाला गया। इसमें मुहम्मद साहब की शान में नात शरीफ़ पढ़ी गई,कव्वाली और नारे लगाए गए। मुहम्मद साहब की शिक्षा और जीवनी पर धार्मिक रहनुमा तकरीर भी किए। जुलूस के लिए सबील लगाई गई,शरबत और पानी भी पिलाया गया।बता दें कि हजरत मोहम्मद के जन्म दिवस के मौके पर खुशी के साथ-साथ लोगों की सेवा भी की जाती है। गरीबों में खाना बांटा जाता है तो कई लोग प्यासों को पानी पिलाने के लिए सबील लगाते हैं.ईद की तरह अपने रिश्तेदारों और पड़ोस में घर में बनी हुई मीठी चीज हलवा आदि भेजा जाता है।ईद मिलाद के दिन मौलानाओं और धर्म गुरुओं द्वारा हजरत मोहम्मद के जीवन और संदेश को बयान किया गया। जुलूस में इस्लाम के बारे में तथा हजरत मोहम्मद के जीवन के बारे में उलेमांओं के द्वारा विशेष तौर पर आम लोगों को बताया गया। किस तरह हजरत मोहम्मद ने अल्लाह के संदेश को लोगों तक पहुंचाया और किस तरीके से उन्होंने लोगों को नेकी और अच्छाई के रास्ते पर चलने के लिए कहा।उन्होंने बताया कि हजरत मोहम्मद साहब दुनिया में अमन और भाईचारे का संदेश लेकर आए। उनके संदशों ने लाखों लोगों के विचारों और जीवन मूल्यों पर अभूतपूर्व प्रभाव डाला। उन्होंने पूरी दुनिया को मानवता का संदेश दिया। हजरत मोहम्मद साहब के संदेश हमेशा समाज को सच्चाई और नेकी के रास्ते पर चलने के लिए प्रेरित करते रहेंगे।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments