Thursday, February 29, 2024
Homeरामकोलाफिर एक रामचंद्र वसुधा को चाहिए- अशोक शर्मा

फिर एक रामचंद्र वसुधा को चाहिए- अशोक शर्मा

एएमटी न्यूज टीम कुशीनगर

एएमटी न्यूज मधुर साहित्य सामाजिक काव्य संस्था की 106 वीं कवि गोष्ठी सुनील चौरसिया ‘सावन’ के आवास पर अटल नगर (अमवा बाजार), रामकोला , कुशीनगर में सफलतापूर्वक संपन्न हुई जिसमें ‘सावन साहित्य सेवा सदन’ के द्वारा हिन्दी और भोजपुरी के वरिष्ठ कवि मधुसूदन पांडेय ‘मधुर’ को उनके काव्य संग्रह मधुरामृत के लिए शब्द श्री सम्मान से सम्मानित किया गया। शायर नूरुद्दीन नूर की अध्यक्षता में जगदीश कुशवाहा ने सरस्वती वन्दना प्रस्तुत की। मंच संचालक अशोक शर्मा ने ‘फिर एक रामचंद वसुधा को चाहिए’ सुनाकर वाहवाही लूटी तथा मधुसूदन पांडेय ने ‘वाणी में दम जेकरे काम बनि जाई, जे बा सरल ओकर मुंहवे नोचाई’ तथा बलराम राय ने ‘अपना शहर वो शहर हो गया है, जो था खबर, बेखबर हो गया है’ सुना कर कवि गोष्ठी को नई ऊंचाई प्रदान की। भोजपुरी कवि उगम चौधरी मगन ने भ्रूण हत्या की ओर संकेत करते हुए ‘माई बेटी जनम बड़ा सुनर, माहुर देइ जनि मार…’ सुनाकर सबको भाव विभोर कर दिया । सुरेंद्र प्रसाद गोपाल ने ‘क्यों विवश हो खुद की पीठ थपथपाने को’ तथा असलम बैरागी ने ‘उड़ जाई हंसा निकल जाइ गहना’ सुनाकर तालियां बटोरी। सुनील चौरसिया’सावन’ ने अपने काव्य संग्रह ‘हाय री! कुमुदिनी’ से ‘महत्त्व’ नामक कविता ‘भूत-भविष्य की चक्की में पिस रही ज़िंदगी , कौन समझता है वर्तमान का महत्व ? दुख-दर्द की कहानी बन जाए उपन्यास, कौन समझता है मुस्कान का महत्त्व ?’ परोस कर ‘सावन साहित्य सेवा सदन’ की स्थापना पर प्रकाश डालते हुए बताया कि इसके अंतर्गत निरन्तर कवि सम्मेलन एवं कवि गोष्ठी का आयोजन किया जाएगा तथा साहित्य प्रेमियों की कृतियों को प्रकाशित करवाने के साथ उन्हें सम्मानित किया जाएगा। अनाथ एवं दिव्यांग छात्राओं को पाठ्य सामग्री प्रदान कर उन्हें शिक्षा-दीक्षा प्राप्त करने हेतु यथासंभव सहयोग प्रदान किया जाएगा। सावन ने बताया कि विद्यार्थियों के मन में हिन्दी साहित्य के प्रति रुचि जागृत करने हेतु निबंध लेखन, कविता लेखन इत्यादि प्रतियोगिताएं आयोजित की जाएंगी तथा विजेता प्रतिभाशाली विद्यार्थियों को पुरस्कृत किया जाएगा। कवि गोष्ठी का मुख्य अतिथि उगम चौधरी रहे तथा रामकेवल चौरसिया ने धन्यवाद ज्ञापित किया। सुप्रीति चौरसिया, राधा, संदीप, शैलेंद्र, राम प्रसाद, प्रियंका, सोना, उर्मिला देवी इत्यादि श्रोताओं की गरिमामय उपस्थिति रही।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments